आपके पहने हुए जूते-चप्पल भी हो सकते हैं वास्तु दोष का कारण !

दोस्तों घर को साफ़ रखना बेहद आवश्यक होता है इससे हमारा स्वास्थ्य अच्छा रहता है. घर में किसी भी तरह की गंदगी नहीं फैलानी चाहिए. वास्तु शास्त्र के अनुसार घर को साफ़ रखना स्वास्थ के लिए बेहद लाभकारी होता है. वास्तु शास्त्र में ऐसा माना गया है कि घर की गंदगी स्वास्थ के साथ साथ आर्थिक नुकसान का कारण भी होती है.

जब हम घर में जूते या चप्पल लेकर आते हैं तो उसमें आने वाली गंदगी भी घर में वास्तु दोष उत्पन्न करती है. दरअसल हमारे चप्पल पर लगी हुई मिट्टी में तरह-तरह की नकारात्मक शक्तियां वास करती है जिस वजह से घर में वास्तु दोष उत्पन्न होता है. आज हम आपको वास्तु दोष से होने वाली परेशानियों से दूर होने के कुछ उपाय बताने वाले हैं.

हमारे शास्त्रों में घर में प्रवेश करने से पहले जूते-चप्पल बाहर उतारने का प्रचलन चला आ रहा है. ऐसा करने से घर में नकारात्मक शक्तियां प्रवेश नहीं करती.

वास्तु दोष से बचने के लिए घर के मुख्य दरवाज़े के पास या सामने जूते-चप्पल नहीं रखना चाहिए.

घर में प्रवेश करते समय जूते-चप्पलों को व्यवस्थित ढंग से रखना ही लाभकारी होता है इतना ही नहीं जूतों को हमेशा पश्चिम दिशा में रखना चाहिए.

घर में पड़े जूते-चप्पलों का उल्टा होना वास्तु दोष का सबसे बड़ा कारण माना जाता है.

वास्तु शास्त्र के अनुसार ऐसा माना गया है कि पलंग या बिस्तर के पास जूते रखने से उनमें मौजूद नकारात्मक शक्तियां हमारे दिमाग में असर कर सकती है.

जूते पहनकर कभी भी भोजन नहीं करना चाहिए ऐसा करना दुर्भाग्य को बुलावा देने जैसा होता है.

 

घर में पड़े ख़राब जूते-चप्पलों का अगर आप प्रयोग नहीं करते तो उन्हें किसी को दान करना लाभकारी है. घर में बिखरी हुई चप्पलें शनि की क्रूर दशा को निमंत्रण देते हैं.

बाथरूम में इस्तेमाल होने वाली चप्पल को हमेशा अलग रखना चाहिए क्योंकि ऐसा माना गया है कि बाथरूम में दरिद्रता का वास होता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *