तो ये हैं वो लोग जिनकी आवाज़ें आप मेट्रो रेल में सुनते हैं

दिल्‍ली मेट्रो में रोजाना लाखों की तादाद में लोग सफर करते हैं। हर जरूरी जानकारी की सूचना यात्रियों को मेट्रो स्‍टेशन पर ही अनाउंसमेंट के जरिए मिल जाती है। मेट्रो में निरंतर होने वाली घोषणाओं के पीछे किसकी आवाज शायद ही कोई व्यक्ति जानता होगा। हिंदी में पुरुष और अंग्रेजी में एक महिला की आवाज ‘दिल्ली मेट्रो’ में घोषणा के रूप में निरंतर सुनाई पड़ती है। तो आइये आपको भी बताते हैं, आखिर ये बेहतरीन आवाजें हैं किनकी, ये दोनों जादुई आवाजें शम्‍मी नारंग और रिनी साइमन खन्ना की हैं- People Behind The Voice Of Delhi Metro

शम्मी नारंग – 

दिल्ली मेट्रों में यात्रा के दौरान जिस पुरुष की आवाज़ आपको लगातार हिन्दी में सुनाई देती है, वो आवाज आईआईटी दिल्ली से पोस्‍ट ग्रेजुएशन कर चुके शम्‍मी नारंग की है।

जब नारंग 19 साल के थे और वो कैंपस में इधर-उधर टहल रहे थे, तब आचानक उन्हें एक विदेशी इंजीनियर ने माइक्रोफोन के ध्वनि परीक्षण के लिए बुलाया और माइक्रोफोन में नारंग को कुछ भी कहने को कहा। जब नारंग ने माइक्रोफोन पर कुछ शब्द कहे, तो वो विदेशी इंजीनियर हैरान रह गया, जिसके बाद उसने शम्मी नारंग को ‘वॉयस ऑफ अमेरिका’ के हिन्दी विभाग में मौका दिया। वह संयुक्त राज्य अमेरिका के सूचना सेवा (यूएसआईएस) में तकनीकी निर्देशक था।

People Behind The Voice Of Delhi Metro
People Behind The Voice Of Delhi Metro

वे बाद में दूरदर्शन का चेहरा बन गए, जो 70 के दशक का इकलौता चैनल था। शम्मी नारंग अकेले ही शख़्स थे, जिन्हें दूरदर्शन ने 10,000 लोगों के बीच से न्यूज रीडर के लिए चुना था। इसके बाद से इन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।

रिनी साइमन खन्ना – 

अंग्रेजी भाषा में जिस महिला की आवाज़ आप ‘दिल्ली मेट्रो’ में सुनते हैं, वो रिनी साइमन खन्ना की है। रिनी का जन्म केरल में हुआ था। इनके पिता भारतीय वायु सेना के एक अधिकारी थे, जिसके कारण रिनी को देश के नौ अलग-अलग स्कूलों में पढ़ाई करनी पड़ी। इन्होंने 1985-2001 तक दूरदर्शन में न्यूज एंकर के रूप में, और बाद में एक वीओ आर्टिस्‍ट और एक एंकर के रूप में काम किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *