नवरात्र में सोना खरीदने से पहले रखें इन बातों का ध्यान, कही लग न जाए चूना

नवरात्र में सोना खरीदना शुभ माना जाता है, इसलिए अगर आप भी नवरात्र में सोना खरीदने की प्लानिंग कर रहे हैं तो ऐसे में आपके लिए ये जानना बहुत जरूरी है की जो सोना आप ख़रीद रहे हैं वह नकली तो नहीं है. सोना खरीदने से पहले यह जानना जरूरी है कि सोना असली है या नकली. जिसके चलते हर किसी को सोना खरीदते समय इस बात का डर रहता है कि कहीं आपके साथ धोखा तो नहीं हो रहा है या आपको असली सोना मिल रहा है या नहीं. लेकिन अब इन सब बातों को लेकर डरने की जरुरत नहीं हैं क्योंकि आज हम आपकों सोना खरीदते वक्त ध्यान में रखी जाने वाली बातों के बारे में बता रहे हैं. जिन्हें ध्यान में रखने के बाद आपके साथ कभी भी धोखा नहीं होगा. सोना खरीदते समय किन बातों का ध्यान रखें. Before Buying Gold Take This Point In Mind

नवरात्र में सोना खरीदना शुभ माना जाता है, इसलिए अगर आप भी नवरात्र में सोना खरीदने की प्लानिंग कर रहे हैं तो ऐसे में आपके लिए ये जानना बहुत जरूरी है की जो सोना आप ख़रीद रहे हैं वह नकली तो नहीं है.

हॉलमार्क :

आजकल हॉलमार्क से असली सोने को पहचानना सबसे आसान है. भारत में बीआईएस संस्था उपभोक्ताओं को उपलब्ध कराए जा रहे गुणवत्ता स्तर की जांच करती है. इसलिए बीआईएस हॉलमार्क देखकर सोना खरीदना चाहिए. लेकिन ऐसे में यह देखना जरूरी है कि हॉलमार्क ओरिजनल है या नहीं? बता दें कि असली हॉलमार्क पर भारतीय मानक ब्यूरो का तिकोना निशान होता है और उस पर हॉलमार्किंग सेंटर के लोगो के साथ सोने की शुद्धता भी लिखी होती है.

एसिड टेस्ट :

अगर आप खुद असली सोने के बारे में पता लगाना चाहते हैं तो आप इस एसिड टेस्ट से आसानी से पता लगा सकते हैं. इसके लिए आप पिन से सोने पर हल्का सा खरोच लगाएं और फिर उस खरोच पर नाइट्रिक एसिड की एक बूंद डाले. नकली सोना तुरंत ही हरा हो जायेगा, जबकि असली सोने पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा.

मैग्नेट टेस्ट :

असली सोने की पहचान करने के लिए आप ये मैग्नेट टेस्ट भी कर सकते हैं. बता दें कि सोना चुंबक पर चिपकता नहीं है, इसलिए एक स्ट्रांग चुंबक लें और उससे सोने को चिपकाएं. अगर सोना थोड़ा सा भी चुंबक की ओर आकर्षित होता है तो मतलब सोने में कुछ ना दिक्कत है. इसलिए चुंबक से चैक करके ही सोना खरीदें.

वाटर टेस्ट :

सोने का वाटर टेस्ट करने के लिए एक कप पानी लें और उसमें सोने को डुबाएं. अगर सोना पानी के कप में डुबेगा तो वो असली है जबकि वो पानी की धारा के साथ तैरता है तो वो असली नहीं है. बता दें कि सोना कभी तैरता नहीं बल्कि डूब जाता है. साथ ही ये भी बता दें कि सोने में कभी भी जंग नहीं लगती है.

खनक पर दें ध्यान :

असली और नकली सिक्कों की पहचान उसकी खनक से की जाती है. मेटल पर असली चांदी का सिक्का गिराने पर भारी आवाज, जबकि नकली सिक्का लोहे की तरह खनकता है. प्राचीन और विक्टोरियन सिक्के गोल व घिसे रहते हैं, जबकि नकली सिक्कों के किनारे कोर खुरदुरी रहती है.

विश्वसनीय दुकानों से खरीदें :

अगर आपको मालूम नहीं है कि कॉमन बुलियन सिक्के कैसे दिखते हैं और असली सोना कैसे पहचाना जाता है तो आप हमेशा विश्वसनीय दुकान से ही सोना खरीदें. साथ ही बड़े शोरुम आदि पर भी विश्वास किया जा सकता है, क्योंकि ये आपको सोने के असली होने को लेकर पूरे जरुरी दस्तावेज देते हैं.

सोने की कीमत ऐसे पहचानें :

सोने की कीमत उसके कैरेट के हिसाब से होती है और जितने ज्यादा कैरेट का सोना होगा, उतना ही महंगा होगा. इसलिए कैरेट देखकर उसकी कीमत की जानकारी रखें. दरअसल हम सोना खरीदते वक्त 24 कैरेट के सोने के भाव देखते हैं और ज्वैलरी के लिए 22 कैरेट खरीदते हैं, जिसकी कीमत बहुत कम होती है. इसके लिए 24 कैरेट सोने के भाव में 24 का भाग दें और 22 से गुणा करें इससे आपको 22 कैरेट सोने की कीमत पता चल जाएगी.

Written by Anil

Content Writer

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *